मीठी-मीठी भू जहाँ (Sweet - sweet land where)


मीठी-मीठी भू

मीठी-मीठी भू जहाँ , गंध सुहानी देय।

सब सुख सुलभ होय वहाँ, कृपा-सिंधु सब देय।।

कृपा-सिंधु सब देय, तो बढ़े वंश धन-धान।

सभी देय सम्मान, कोर्ट-कचहरी में मान।।

कह `वाणी´ कविराज, दु:ख-दर्द सब के भागे।

जाय खरीदो प्लाट, भू जहाँ मीठी लागे।।

शब्दार्थ : मीठी लागे = मिट्टी का स्वाद मीठा लगना, भू = भूमि

भावार्थ : विद्वान्-पंडितों के लिए वही आवासीय भूखण्ड सर्वश्रेष्ठ होता है, जिस मिट्टी का स्वाद मीठा एवं गंध सुहानी हो। वहाँ कृपा-सिन्धु के सदैव प्रसन्न रहने से वंश, धन-धान्य और सभी प्रकार के सुख स्वत: बढ़ते हैं। कोर्ट-कचहरी के विवाद आपके पक्ष में निकलने से सम्मान-वृद्धि होती है।

`वाणी´ कविराज कहते हैं कि परिवार के किसी सदस्य के यदि कोई पुराना दु:ख-दर्द है तो वह भी शीघ्र ही दूर हो जावेगा आप तो बस मीठी लगने वाली श्वेत-वणीZ ब्राह्मणी भूमि पर एक आवासीय प्लाट खरीद लो।

1 टिप्पणी:

बेनामी ने कहा…

अची भूमि के और क्या प्रकार हे और किस तरह की भूमि हमें लेना चाहिए

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com