पीली हरी जमीं (yellow-green Land)

पीली हरी जमीं

पीली हरी जमीं जहाँ , जम-जम बरसे नोट।

खट्टा इसका स्वाद है , करो सेठजी नोट।।

करो सेठजी नोट, यह देय शहद सी गंध।

वैश्या भूमि कहाय , चलाय धन्धे जो बंद।।

कह `वाणी´ कविराज, धन देवे धरा पीली।

स्वर्णाभूषण पहन, पत्नियाँ पीली-पीली।।

शब्दार्थ : जम-जम बरसे = लम्बी अवधि तक बरसना, स्वर्णाभूषण = सोने के गहने

भावार्थ : पीली और हरे रंग की भूमि पर जम-जम कर नोटों की बरसातें होती है । शहद जैसी गंध वाली इस भूमि का स्वाद खट्टा होता है । हे

सेठजी ! ऐसी प्रमुख बातें आप नोट कर लेवें। इसे महाजनी और वैश्या भूमि भी कहते हैं। यह वषोंZ से बन्द धन्धे शीघ्र चला कर स्वामी को धनवान बना देती है।

`वाणी´ कविराज कहते हैं कि पीत वणी भूखण्ड इतना धन दायक होता है कि उस भवन की बेटियाँ कुल-वधुएँ स्वर्णाभूषण पहन-पहन कर ऐसी पीली-पीली दिखती हैं कि उन्हें पहचानने में ही परेशानी आ जाती है। उन्हें देख, पता ही नहीं चल पाता कि ये हमारे परिवार की बहु-बेटियाँ हैं या हेम-कन्याएँ हैं।

2 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

यह अद्भुत तरीका अपनाया है आपने ज्ञान देने का.

amritwani.com ने कहा…

उड़न तश्तरी बहुत खुसी हुई की आप को हमारा ये तरीका पसंद आया

अमृत 'वाणी'

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com