तिजोरी (Vault)

उत्तर दिषा आवास की ,समझो धन का वास ।
चयन कमरे का करना , यही चयन है खास ।।
यही चयन है खास , रखें वहीं पर तिजोरी ।
कोण जहां नैऋत्य , रखें कुछ वहां तिजोरी ।।
कह ’वाणी’ कविराज , वहीं स्फटिक का श्रीयंत्र ।
पल-पल में धनवान , ऐसा यह अचूक मंत्र ।।

--------------------------

वास्तु उपहार

वास्ता गहरा वास्तु से , देता हूंॅ उपहार ।
जहाॅं-जहाॅं हीरे मिले , वहीं बनाए हार ।।
वहीं बनाए हार , कलम ने खूब तराषा ।
रहें हृदय के माय , मुझे ऐसी ही आषा ।।
कह ‘वाणी’ कविराज , रास्ता दिखाए रास्ता ।
दिन-दिन करो विकास , जिनका गहरा वास्ता ।।

--------------------------

नफा मिले तत्काल

यदि घाटे में चल रही , फेक्ट्र्ी और दुकान ।
आठ पहर कहते यही , पार लगा भगवान ।।
पार लगा भगवान , बिठा गणपति महाराज ।
अन्दर और बाहर , मुख्य द्वार पर तुम आज ।।
कह‘वाणी’कविराज , आमद ऐसी बढ़ रही ।
नफा मिले तत्काल , यदि घाटे में चल रही ।।

------------------

कोई टिप्पणी नहीं:

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com