अण्डा जैसा प्लाट (Egg plot as)

अण्डा जैसा प्लाट

अण्डा जैसा प्लाट जो, ले लेवें श्रीमान ।
सभी तरफ दुश्मन बढें, रक्षा कर भगवान ।।
रक्षा कर भगवान, दो त्यागने की सलाह ।
जीवन भर पुकारे, हे ईश्वर हे अल्लाह ।।
कह ’वाणी’ कविराज , अपराध बिन खा डंडा ।
जीवन बिगड़ा जाय , खाय ब्राह्मण भी अण्डा ।।



शब्दार्थ: त्यागना = छोड़ना


भावार्थ
: अण्डाकार प्लाट अगर कोई खरीद लेता है तो उसके चारों तरफ इतने शत्रु बढ़ जाते हैं कि केवल भगवान् ही उनकी रक्षा कर सकते हैं। आप जानते हैं भगवान् तो आजकल ऐसे ही ओवर बिजी हंैं कि उन्हें अपने ही कार्यो से फुरसत नहीं है। इसलिए बुद्धिमानों को चाहिए कि वे मिलते समय उन्हें वह अण्डाकार प्लाट त्यागने की सलाह अवश्य देवें। जब तक वह प्लाट नहीं त्यागेगा तब तक जीवन भर विभिन्न कष्टों से कराहता हुआ हे ईश्वर ! हे अल्लाह! करता ही रहेगा।

’वाणी’ कविराज कहते हैं कि इस प्रकार की भूमि के कुप्रभाव से कभी-कभी बिना अपराध के भी डण्डे खाने पड़ सकते हैं। जीवन में ऐसा नैतिक पतन भी हो जाता है कि ब्राह्मण-पुत्र भी खुल कर अण्डे खाने लग जाते हैं।

1 टिप्पणी:

Shekhar kumawat ने कहा…

मैं आपसे सहमत हूँ।

shekhar kumawat
http://kavyawani.blogspot.com/

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com