धन-धन थानेदार (Money - money Inspector )

धन-धन थानेदार


चन्द्र सरीखा सदन हो, धन मुश्किल से आय ।
रहे न चार दिन वह तो, चोर-चोर ले जाय ।।
चोर-चोर ले जाय , ना आवे थानेदार ।
बहुत देर से आय , धन मांगे थानेदार ।।
कह ’वाणी’ कविराज, ना देखा उस सरीखा ।
धन-धन थानेदार ,जो सिंह चन्द्र सरीखा ।।



शब्दार्थ: सदन = भवन, चन्द्र सरीखा = चन्द्रमा जैसी वक्र आकृति का


भावार्थ: चन्द्राकार भवन में आय कम होती एवं चोरी-भय बढ़ता है। चोर चोरी करके सकुशल घर पहुँच जाने के बाद जब उनका राजी-खुशी का टेलिफोन थाने में पहँूच जाता है, तब अनुभवी थानेदार चोरों को पकड़ने घटना-स्थल पहुँचता है। वहाँ जाते ही थानेदार साहब भी पहले तो सांकेतिक भाषा में चाय-पानी की ही बात करतंे हैं।

’वाणी’ कविराज कहते हैं कि धन्य-धन्य हो थानेदार, मैने भी अभी तक वक्रता युक्त चतुर्थी के चन्द्र जैसा विचित्र थानेदार नहीं देखा।

2 टिप्‍पणियां:

Shekhar kumawat ने कहा…

इस जानकारी के लिए आभार

सीमा सचदेव ने कहा…

sundar kundali ke saath sundar chitr

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com