उत्तर-दक्षिण रोड़ (North - South Road)

उत्तर-दक्षिण रोड़


उत्तर-दक्षिण रोड़ का, फिफ्टी-फिफ्टी जान ।
वहाँ सभी है मतलबी, बचाय अपनी जान ।।
बचाय अपनी जान, पड़ते जान के लाले ।
वर किचन देखे ना, वधू दुकान के ताले ।।
कह ’वाणी’ कविराज, यूँ करो दुर्गा-शंकर ।
अपने-अपने हाल, वे दक्षिण आप उत्तर ।।



शब्दार्थ: फिफ्टी-फिफ्टी = आधा-आधा शुभाशुभ, जान के लाले = भयंकर मुसीबतें आना


भावार्थ: उत्तर-दक्षिण रोड़ वाले भूखण्ड को फिफ्टी-फिफ्टी अर्थात् अतिसामान्य श्रेणी का ही समझना चाहिए। उस परिवार के सभी सदस्य अपनी-अपनी स्वार्थ-सिद्धि को पूर्ण करने में ही लगे रहते हैं। स्वयं को ही सुरक्षित रखने की होड़ में सभी अपने आप को हर पल असुरक्षितसा अनुभव करने लग गए हैं। पति-पत्नी में भी आए दिन विवाद चलते रहते हैं। इसका अच्छा समाधान यही है कि वर, घर की, किचन की, व अन्य सामाजिक व्यवस्थाओं में अधिक हस्तक्षेप न करे और वधू वर की नौकरी या व्यवसाय आदि में कभी किसी प्रकार की बाधा न पहुँचावे।

’वाणी’ कविराज कहते हैं कि हे गृह स्वामी दुर्गाशंकर ! ऐसा करलो कि आप दोनों अपने-अपने कार्यो में लगे रहो वे दक्षिण दिशा में बैठते हैं तो आप उत्तर दिशा में बैठो।

5 टिप्‍पणियां:

P.N. Subramanian ने कहा…

हम तो फंस ही गए. उत्तर से दक्षिण जाने वाले एक मुख्य सड़क पर हमारी कालोनी है. अन्दर भी उत्तर दक्षिण सड़कें हैं जिनमें तीन तीन आमने सामने मकान बने हैं. हम क्या करें.

amrit 'wani ने कहा…

mahashay ji aap apni smasya ko vistar se hame bataye sath hi apni colony ka map bhi sanlagn kare taki ham achi tarha se aap ki samsya ka samadhan kar payen |

hamara e-mail pata he
E mail id:- amritwani8@gmail.com



amrit'wani'

Prem Farrukhabadi ने कहा…

Bahut behtar jaankari lagi.Badhai!

हर्षिता ने कहा…

अच्छी जानकारी दी आपने धन्यवाद।

jaat ने कहा…

सर जी हमारा घर का मेन द्वार तो पश्चिम मे है। और छोटा द्वार उत्तर दिशा मैं है। ये फलदायी है या नहीं कृपया बतायें।

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com