पूरब-पश्चिम रोड़ (East - West Road)

पूरब-पश्चिम रोड़


पूरब-पश्चिम रोड़ हो , हो मर्दों की बात
प्राणेश्वरियाँ प्राण दे, रखे आपकी बात ।।
रखे आपकी बात, बढ़े बुजुर्गों का मान
खा मालपुआ खीर , वे दिन-भर चबाय पान ।।
कहवाणीकविराज, जरा करले जोड़-तोड़
नाज करता समाज , रख पूरब-पश्चिम रोड़ ।।



शब्दार्थ: बुजुर्ग = वृद्ध व्यक्ति, चबाय = चबाना,नाज = गर्व,


भावार्थ: जहाँ पूरब-पश्चिम दिशा में एक साथ रोड़ हो उस परिवार मंे पुरूष वर्ग की बातोें को पूरा सम्मान मिलता है। प्राणेश्वरियाँ प्राण न्यौछावर कर देती हैं, परन्तु अपने प्रेम को घटने नहीं देती। बड़े-बुजुर्गों को अच्छा-भला सम्मान मिलता है, वे आए दिन मालपुआ-खीर खाते हुए दिन-भर पान चबाते रहते हैं।

’वाणी’ कविराज कहते हैं कि जरा भाग-दौड़ करो भाई, कुछ जोड़-तोड़ बिठाके ऐसा प्लाट खरीद लो। ऐसे भवनों में रहने वालों की सामाजिक प्रतिष्ठा तो बढ़ती है किन्तु उस अनुपात में धन-वृद्धि कुछ कम
रहती ।


11 टिप्‍पणियां:

दिलीप ने कहा…

bahut khoob rachna to lajawab thi...sath me shabdarth aur anuvaad bhi diya...abhar...
http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत बढ़िया/

ललित शर्मा ने कहा…

राम राम सा
चोखी ज्ञान की बात कही।

वन्दना ने कहा…

are waah bada hi nirala andaz hai..........vaise hamare ghar ke bhi poorab aur pashchim mein road hai.

माणिक ने कहा…

jaankaar kee ye baat kaam aayegee. abhi to makaan ke pate nahi hai.achhe din bhi aayenge.

APNI MAATI
MANIKNAAMAA

संजय भास्कर ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com

kshama ने कहा…

Ham to bane banaye flatme rahte hain...!

anjana ने कहा…

बढिया..

दिगम्बर नासवा ने कहा…

Apni baat prastut karne ka niraala andaaz hai aapka ... bahut lajawaab ...

bhartiyamahilaparivar ने कहा…

Jai Bharat,
Aapne achchhi jankari di hai ese hi dete raho aap hi Bharat k sachche sput hai. dekhe

www.tarangdarshan.tv
par bhi apne aalekh Bhej sakte hai.
tarangchannel@gmail.com
dhanyawad

kaur ने कहा…

this is vary good of i am vary impress

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com