अग्नि कोण के रोड़ (Fire Angle Road)

अग्नि कोण के रोड़


अग्नि कोण के रोड़ में, घटे बैंक बेलेन्स ।
घट-घट प्राणेश्वर घटे, वाईफ नाॅनसेन्स ।।
वाईफ नाॅनसेन्स, फाइनल डिसिजन देवे ।
पति की हो प्रजेन्स, कन्सल्ट कभी न लेवे ।।
कह ’वाणी’ कविराज, रहे श्रीमानजी मौन ।
लेय पत्नी क्रेडिट, रोड़ हो अग्नि कोण ।।


शब्दार्थ: नाॅनसेन्स = बुद्धिहीन मूर्खा, प्रजेन्स = उपस्थिति, फाइनल डिसिजन = अंतिम निर्णय, क्रेडिट = सम्मान ख्याति, कन्सल्ट = सलाह


भावार्थ: जिस भवन के पूर्व और दक्षिण दिशाओं में रोड़ हो वहाँ धन-वृद्धि रूक जाती, जलांजली की भाँति बैंक बेलेन्स निरन्तर घटता रहता है। बुद्धिहीन पत्नी मिलने से प्राणेश्वर का मान-सम्मान भी घटने लग जाता है। इतना ही नहीं वही नाॅनसेन्स पत्नी इन्पोर्टेन्ट केसेज में फाइनल डिसिजन भी दे देती है। पति महोदय की प्रजेन्स में भी किसी भी बड़ी बात पर बेचारे की कभी कन्सल्ट नहीं लेती।

’वाणी’ कविराज कहते हैं कि उन घरों में हर समझदार व विद्वान, पति परमेश्वर लौहे की अलमारी की भाँति मौन ही खड़े रहते हैं, कभी बोल पड़ते हैं तो वह भी अलमारी की स्टाईल में ही किसी के कुछ समझ में नहीं आता। देखते-देखते हर कार्य की क्रेडिट वही नाॅनसेन्स पत्नी ले जाती है। बेचारा पति हर बार जीती बाजी हार जाता है।

2 टिप्‍पणियां:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

पत्नी से जीती बाजी हारने में ही पति की जीत है .... बहुत लाजवाब लिखते हैं आप ...

ओम पुरोहित'कागद' ने कहा…

bhai aapro blog to jordar hai.badhai.tharo kalsiyo mhare blog mathe ni mandyo.kain rollo hai?

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com