पति बजाएगा तबला (Husband play the tabla)

तबला जैसी भू जहाँ, है पूरी बेकार।
तुम सौदा कैंसल करो, करके तुरंत तार।।

करके तुरंत तार, जी भर बजाओ ताली।
नहीं तो वही प्लाट, कर देय धन से खाली।।

कह 'वाणी' कविराज , सुनले बात तू अबला।
धंधा पानी छूट, पति बजाएगा तबला।।



शब्दार्थ: बेकार = व्यर्थ, कैंसल = निरस्त , अबला = औरत, तबला = एक प्रकार का वाद्य यंत्र


भावार्थ: तबला जैसा भूखण्ड आवासीय दृष्टि से श्रेष्ठ नहीं होता है। ऐसा प्लाट मिल जाने पर तुम तुरन्त तार करके अपनी ओर से सौदा कैंसल करने की सूचना भेजते हुए खूब तालियाँ पीटो। आपने यदि सही समय पर यह ठोस कदम नहीं उठाया तो वही तबलाकार भूमि आपको धनहीन कर देगी ।


'वाणी' कविराज कहते हंै कि हे अबला ! सुनो तुम हमारी बातों पर विश्वास करलो, वर्ना वह दिन दूर नहीं जिस दिन धन्धा पानी सब छूट जावेगा और तुम्हें गली-गली नाचने पर और पति महोदय को तबला बजाने पर मजबूर होना पड़ेगा।





4 टिप्‍पणियां:

Suman ने कहा…

nice

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वास्तू को कविता में उतार कर .. बखूबी पेश किया है आपने ....

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

Wah Maharaaj......ye prastuti badiya lagi...advise ki advise or kavita ki kavita....Aadi kavi GHAG MAHARAJ ki tarah.....

ana ने कहा…

jaankaari ke liya shukriya.........kavita ke roop me aur achchha lagaa

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com