चार दिशा में रोड़ ( Four Side Road)

चार दिशा में रोड़


चार दिशा में रोड़ हो, चारों भुजा समान
कोण सभी समकोण हो, सरल कोण सम्मान ।।

सरल कोण सम्मान, कर जीवन भर आराम
घट-घट रहता राम, श्रीराम करे सब काम ।।

कहवाणीकविराज, सब का जीवन दे मोड़
प्लाट ऐसा लेना, जिसके हर दिशा में रोड़ ।।

शब्दार्थ :- समकोण = 900 डिग्री का कोण, सरल कोण = 1800 डिग्री का कोण
भावार्थ :- सर्वश्रेष्ठ प्लाट की विशेषता यह होती है कि उसकी चारों भुजाएँ समान और चारों कोण समकोण होते हंै। उस भवन में रहने वालें का बहुत सम्मान बढ़ता है। सभी व्यक्ति उन्हें 180 डीग्री तक झुक-झुक सोते हुए साष्टांग दण्डवत् प्रणाम करते हंै। आवासियों के अन्तःकरण में सत्य रूपी राम बना रहेगा, जिससे प्रसन्न होकर श्रीराम सब काम पूर्ण करते रहेंगे, क्यांेकि सत्य और राम एक ही हैं।

वाणीकविराज कहते हैं कि आवासियों का जीवन अलौकिकता की ओर बढ़ कर सफलता प्राप्त करेगा। विशेष प्रयास करते हुए आपको भी ऐसा प्लाट लेना चाहिए, जिसके हर दिशा में रोड़ हो।

6 टिप्‍पणियां:

माणिक ने कहा…

GOOD WORK TOWARDS UNKNOWN PERSON TO BUILD A HOUSE

G.N.SHAW ने कहा…

क्या स्वप्न भी सच्चे होतें है ?...भाग-५.,यह महानायक अमिताभ बच्चन के जुबानी.

"जाटदेवता" संदीप पवाँर ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति

Rashmi Jain ने कहा…

we helps you exploring new heights in your life by sort out your obstacles.................Vastu For House and Vastu For Kitchen

Lakshay Kukreja ने कहा…

Thanks for the information about "भारतीय वास्तु शास्त्र". जानिए वैदिक ज्योतिष, वास्तुशास्त्र और फेंगशुई के कुछ विशेष उपाय. For more info, you can subscribe our youtube channel - https://www.youtube.com/vaibhava1

IVA Vedic ने कहा…

Whoa! That was a great post. Keep it up.

institute of vedic astrology
institute of vedic astrology reviews
institute of vedic astrology reviews
Learn Astrology Online
institute of vedic astrology
institute of vedic astrology reviews
institute of vedic astrology reviews
institute of vedic astrology reviews
institute of vedic astrology reviews

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com