वास्तुशास्त्र एवं आवास


जीवन के है बस तीन निशान रोटी, कपड़ा और मकान यानि की जीवन की मूलभूत आवश्यकताओं में मकान 33 प्रतिशत पर काबिज है। आदि मानव के सतत् सक्रिय मस्तिष्क की शाश्वत चिंतन प्रक्रियाओं के परिणाम स्वरूप ही विभिन्न प्रकार के विषयों में उसका दैनिक अनुभव जन्य ज्ञान दिनोंदिन परिष्कृत परिमार्जित एवं नैसर्गिंक अभिवृद्धि करता हुआ चन्द्रकालाओं की भाॅति अब तक प्रतिक्षण प्रगतिशील रहा एवं रहेगा।
गुफाओं, कंदराओं में बैठे-बैठे आदि मानव ने युगों-युगों तक चिंतन, मनन, विचार-विमर्श करता हुआ कई ठोस जीवनोपयोगी वैज्ञानिक दृष्टिकोण ने कुछ आवासीय नियम बनाये यहीं से प्रारम्भ हुए भाषा, ज्योतिष, आयुर्वेद, संगीत, न्याय, नीति आदि विभिन्न विषयों के बीच नवग्रह की अंगूठी के हीरे की भाॅति वास्तुशास्त्र ने भी अपना सम्मानीय स्थान बनाया। भारतीय वास्तुशास्त्र ही विश्वविख्यात अध्यात्म का रूपान्तरित नवीन दृष्टिकोण है। जो ज्योतिष शास्त्र का अभिन्न सहोदर है। आकाश, वायु, जल, पृथ्वी और अग्नि इन पाॅच तत्वों से मनुष्य ही नहीं समस्त चराचरों का निर्माण हुआ है। हर तत्व की प्रगति को गहनता से समझकर कोटि-कोटि वास्तु सिद्धान्त प्रतिपादित किए गए। समाज में हर तबके के व्यक्ति के लिए मकान की लम्बाई, चैड़ाई, गहराई, ऊँचाई निकटवर्ती वनस्पति, पर्यावरण, देवस्थान, मिट्टी का रंग, गंध विभिन्न कई बिन्दुओं को दृष्टिगत रखते हुए सतत् अनुकरणीय सिद्धान्तों की रचनाएं की ताकि समाज में निम्न, मध्यम और उच्च सभी वर्गों के व्यक्ति स्वस्थ रहते हुए शतायु हो सके। यहां यह कहना न्याय संगत नहीं होगा एवं सम्भव है कि वास्तु सिद्धान्तों से कौन व्यक्ति कितना लाभान्वित हुआ और होगा। क्योंकि बुखार को नापने वाले थर्मामीटर की भाॅति मानवीय संवेदनाओं, भावनाओं, अनुभूतियों को नापने वाले उपकरण ना तो बने ना बन सकेंगे।
यह सुख-दुःख की अनुभूतियाॅ मूक पशु-पक्षियों की बहती हुई अश्रुधारा एवं गूंगे के गुड़ की भाॅति अवर्णनीय शब्दातीत एवं कल्पनातीत है। पाश्चात्य के चमकीले, लुभावने 200 से अधिक टी.वी. चैनल्स के बीच आज का मानव असमंजस्य के प्लेटफार्म से पिसलन भरी राहों पर सतरंगीय चश्मा लगाकर ईष्या के पावं से अनंत प्रतिस्पर्धा में दौड़ता हुआ नीत नये टेंशन में दिखाई देता है। यह सभी वास्तु, ज्योेतिष, अध्यात्म, धर्म, गीत, संगीत, भोजन, निंद्रा आदि अनेक पहलुओं के समग्र असंतुलन का ही विकृत रूप है। वास्तु के मूल सरल सिद्धान्तों को नव निर्माणाधीन भवनों में तो आसानी से अपनाया जाना संभव है एवं निर्मित भवनों में आंशिक परिवर्तनोंपरान्त सुखद परिणाम प्राप्त किये जा रहे है। वास्तु शास्त्र के मूल सिद्धान्तों का सरलीकरण करते हुए जन सामान्य के लिए उसे रौचक, पठनीय एवं अनुकरणीय बनाने के क्रम में कुण्डली काव्य में स्वरचित प्रथम पुस्तक ‘‘शिल्पकला पर 100 कुण्डलीयाॅ’’ जिसमें मूल सिद्धान्त कुण्डली काव्य में वर्णित है साथ ही कुण्डलियां शब्दार्थ सरल व्याख्या एवं रौचक चित्रांकन युक्त 107 कविताओं की हास्य शैली प्रधान शीघ्रातिशीघ्र बारम्बार स्वतः स्मरणीय पठनीय पुस्तक है।

वास्तुशास्त्री - कवि अमृत ‘वाणी’

E mail :-amritwani8@gmail.com
Website L- www.amritwani.co.in
Cont No. +91 9414735075

7 टिप्‍पणियां:

parveen bhola ने कहा…

जानिए वैदिक ज्योतिष, वास्तुशास्त्र और फेंगशुई के कुछ विशेष उपाय - हमारे यूट्यूब चैनल पर https://www.youtube.com/vaibhava1

IVA Vedic ने कहा…

institute of vedic astrology
institute of vedic astrology reviews
institute of vedic astrology reviews
Learn Astrology Online
institute of vedic astrology
institute of vedic astrology reviews
institute of vedic astrology reviews
institute of vedic astrology reviews
institute of vedic astrology reviews

Aashish Patidar ने कहा…

Very nice blog.
Indian Astrology
FREE Astrology
Learn Vedic Astrology
Astrology videos

onlinetuitionsindia ने कहा…

Eduzyte offers one-to-one, one-to-many, one-to-group learning solutions for students and professionals. All of our services are live, on demand and online. We do Homework help, tutoring, professional development, training, and career help we do it all. Our experts are online 24/7 ready to help. 90% of the students, teachers, and professionals. Our experts include academic tutors, career tutors and peer coaches. And, to work with our clients, our experts had to undergo an extensive screening, certification and background - check process. We also use a one-of-a-kind mentoring program. Every expert has a mentor to review their work and provide support when needed. For more info.

Call Us: + 91 6303145155
Mail Us: info@eduzyte.com
Website : www.eduzyte.com

Unknown ने कहा…

Thanks for sharing very useful information. Hope you share more with us.
Martial arts classes in velachery
Flute classes in velachery
Dance classes in velachery
Zumba classes in velachery
Yoga class in velachery
Keyboard class in velachery
Violin class in velachery
Guitar class in velachery
Chess class in velachery
Kung fu class in velachery
Light music class in velachery
Music class in velachery
Bharatanatyam classes in velachery
Hindi tutions in velachery
Drawing class in velachery

Vastu Consultant in Delhi ने कहा…

Vastu India is one of the most renowned vastu solution providers specializing in Vastu for Workplaces.

Vastu Consultant in Delhi
Vastu Consultant
Vastu Consultant Service
Vastu Shastra
Vastu Consultant in Delhi

Dr Anand Bhardwaj ने कहा…

Vastu basically use for home and office directions so if anyone wants to consult home office location with vastu consultant or vastu expert so you can click on given link by which you can directly contact to vastu consultant or vastu expert.
Vastu Consultant
Vastu Expert

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com