Vastu Shastra: Dhan Ki Disha/ (SK-104)



धन की दिशा निन्याणू के खेल में, सौ-सौ चक्कर खाय । चार बजे जा सेठजी, अर्द्ध रात्रि को आय ।। अर्द्ध रात्रि को आय, गली के भौंके कुत्ते । ना पहचान पावे, बेचारे देशी कुते ।। कह ‘वाणी’ कविराज, राज धन का मैं जानूं। धन की दिशा उत्तर, कर एक के निन्याणू ।
शब्दार्थ:

राज = रहस्य, एक के निन्याणू = खूब धन कमाना
भावार्थ:

निन्याणवें के चक्कर में लाखों व्यक्तियों को सौ-सौ चक्कर काटते-काटते चक्कर आने लग गए, फिर भी उन्हें संतोषजनक सफलता नहीं मिल पाई। इन सेठजी को ही देखो चार बजे ब्रह्म-मुहर्त में घर से निकलते और अर्द्ध-रात्रि को लौटते हैं। यहाँ तक कि गली के कुत्ते भी नहीं पहचान पाने के कारण भौंकते हुए कभी-कभी धोती पकड़ लेते हैं। खैर! ये पढ़े लिखे भी नहीं, बेचारे देशी कुत्ते ही तो हैं। ‘वाणी’ कविराज कहते हैं कि इस प्रकार धन-प्राप्ति नहीं होती है। धन का राज मैं जानता हूँ। धन की दिशा उत्तर है, संभव हो तो उत्तर दिशा में अधिक दरवाजे व खिड़कियाँ रखो और उत्तर की ओर तिजोरी रखो। धन के देवता कुबेर का पूजन करो। इस प्रकार कुबेर की कृपा से तुम एक के निन्याणवे, बड़ी आसानी से कर सकोगे।
वास्तुशास्त्री: अमृत लाल चंगेरिया





कोई टिप्पणी नहीं:

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com