Vastu Shastra: Khidki/ (SK-107)



खिड़की खिड़की ऐसी होय जो, ऊँची एक समान । समान दरवाजे रहे, दर-दर हो सम्मान ।। दर-दर हो सम्मान, आय के आएं साधन । बिना कमाया दौड़, आए करोड़ों का धन ।। कह ‘वाणी’ कविराज, रख अच्छे समय खिड़की। सुन्दर पड़ोसिन से, बातें करावे खिड़की।।
शब्दार्थ:

साधन = स्रोत
भावार्थ:

खिड़कियों की ऊँचाइयों में अंतर रख दिया तो यह हानिकारक सिद्ध होगा। दरवाजे भी इसी प्रकार समान ऊँचाई के होने चाहिए । दक्षिण दिशा के दरवाजे को धन-वृद्धि हेतु अन्य की तुलना में कुछ ज्यादा चैड़ा व कुछ ज्यादा ऊँचा रखना चाहिए । दरवाजों की समान ऊँचाई के कारणआयवसम्मान दोनों बढ़ते हैं,कभी-कभी तो बिना कमाया धन भी प्राप्त हो सकता है। ‘वाणी’ कविराज कहते हैं कि अच्छे मुहूर्त में रखी खिड़की से अन्य लाभों में तो देर हो सकती है, किन्तु सुन्दर पड़ोसिन सेतो तुरन्त बातें करवाती है।
वास्तुशास्त्री: अमृत लाल चंगेरिया 




कोई टिप्पणी नहीं:

ShareThis

कॉपीराइट

इस ब्लाग में प्रकाशित मैटर पर लेखक का सर्वाधिकार सुऱक्षित है. इसके किसी भी तथ्य या मैटर को मूलतः या तोड़- मरोड़ कर प्रकाशित न करें. साथ ही इसके लेखों का किसी पुस्तक रूप में प्रकाशन भी मना है. इस मैटर का कहीं उल्लेख करना हो तो पहले लेखक से संपर्क करके अनुमति प्राप्त कर लें |
© 2010 अमृत 'वाणी'.com